BE PROUD TO BE AN INDIAN

बुधवार, सितंबर 27, 2017

निजी अनुभवों और सामाजिक मुद्दों की बात करता संग्रह

पुस्तक – मन दर्पण
लेखक – माड़भूषि रंगराज अयंगर
प्रकाशक – बुक बजूका
कीमत – 175 /-
पृष्ठ – 166 ( पेपरबैक )
माड़भूषि रंगराज अयंगर कृत ‘ मन दर्पण ’ 5 गद्य और 60 पद्य रचनाओं से सजा संग्रह है | इन 65 रचनाओं में लेखक ने निजी पीडाओं, निजी अनुभवों और सामाजिक मुद्दों पर अपनी लेखनी चलाई है |

            गद्य रचनाओं में लेखक ने एक कहानी, एक यात्रा के दौरान की वार्ता, एक जानाकरी भरपूर निबन्ध और दो अन्य निबन्धों को रखा है | ‘ द्वंद्व...जारी है ’ कहानी में लेखक प्यार के बारे में लिखते हैं –
प्यार कितना भी पुराना हो जाए सावन में फिर फलने-फूलने लगता है |( पृ. -29 )
यह प्यार होता है शीतल और आदर्श में | लेखक ने कहानी की शुरूआत घमंडी स्नेहिल के वर्णन से की है, लेकिन बाद में उसका कोई जिक्र नहीं | कहानी शीतल और आदर्श को लेकर चलती है और शीतल भी आदर्श को छोड़ जाती है |
      कोरबा से रायपुर जाते समय रेल में सहयात्रियों के रिटायरमेंट के विचारों को लिखते हैं | राष्ट्रीय पर्व में वे विदेशी कम्पनियों के हमारे राष्ट्रिय पर्वों का सम्मान न करने के मुद्दे को उठाते हैं | “ प्रतीकात्मक ” निबन्ध में भी राष्ट्रीय पर्व ही मुद्दा है | वे इन्हें साधारण त्योहारों से अलग मानते हुए लिखते हैं –
हमने तो इन प्रतीकात्मक दिनों को त्यौहार सा मनाना प्रारंभ कर दिया है | जैसे होली आई और गई, वैसे ही स्वंत्रता दिवस भी आया और गया |( पृ. -76 )
उनका मत है कि साल में मनाए जाने वाले करीब 400 दिनों का यही हाल है | हिंदी के बारे में वे लिखते हैं –
इस दिन, सप्ताह, पक्ष सभी लोग सच्चे मन से, ईमानदारी से हिंदी के प्रति श्रद्धा का ( श्राद्ध का नहीं ) प्रण लें और उसे वर्ष भर निभाएं | ताकि अगले हिंदी पर्व पर अपनी उपलब्धियां गिना सकें, दिखा सकें, जिससे अन्यों को हिंदी अपनाने की प्रेरणा मिलेगी |( पृ. -75 )
इया निबन्ध में वे देश की राजनैतिक दशा पर भी लिखते हैं –
जो पार्टी जीत कर आती है उसी का तन्त्र चलता है, उन्हीं का ‘ स्व-तंत्र ’ है | पार्टी अपना और अपनों का हित साधती है |( पृ. -77 )
‘ एकान्तर कथा ’ में वे श्रीनिवासन के बेटे राधे की कथा के माध्यम से पानी का महत्त्व प्रतिपादित करते हैं | उनका मनना है कि पीने योग्य पानी सिर्फ 5% है, जो न संभाला गया तो एक दिन समाप्त हो जाएगा |
               इस संग्रह में 60 कविताएँ हैं | वे संग्रह की शुरूआत गणेश वन्दना से करते हैं और इसके बाद गुरु वन्दना करते हैं | वे मानव की अमानुषिकता से दुखी हैं और उनका मानना है कि 25 वीं सदी को परिलक्षित कर हम 12 वीं सदी की ओर बढ़ रहे हैं | वे बाबरी मस्जिद को ढहाने पर लिखते हैं - 
बैर कर रहे हैं
एक चूने की चिनाई के लिए ?( पृ. -21 )
वे लाल गंगा बहाए जाने की बजाए जो है उसे वैसा ही छोड़ देने के पक्षधर हैं | 1984 के दंगों को याद करते हुए बदलते हालातों का वर्णन करते हैं –
दूध की नदियाँ कभी / बहती थी भारत देश में /
आज बहती खून की / नदियाँ उसी परिवेश में /
भेडिए ही घूमते हैं / आज मानव वेश में /
इंसानियत परिवर्तित हुई / क्लेश में और द्वेष में( पृ. – 65 )
वे सभी से सवाल करते हैं –
होगा नहीं सर तो आज को क्यों भागते हो ?( पृ. -24 )
          जिस तरह निबन्ध में वे हिंदी कि चिंता करते हैं, यह चिंता कविता में भी विद्यमान है –
वस्तु स्थिति तो नंगी है / भले जुबानी हिंदी बोले /
करे सवाल फिरंगी है |( पृ. – 46 )
उनके अनुसार –
अंग्रेजी राज हम पर करती है आज भी( पृ. -62 )
राष्ट्र कि चिंता करते हुए वह लिखते हैं –
जहाँ डाल-डाल पर सोने की / चिड़िया करती थी बसेरा .../
वह देश आज अंतर्राष्ट्रीय बैंको के सहारे बैठा है( पृ. – 137 )
तीसरे विश्व युद्ध का डर उन्हें सताता है | वे वीटो पावर का विरोध करते हैं | बापू, को सम्बोधित करते हुए बदले जमाने की बात करते हैं | वे आज की दशा पर लिखते हैं  –
किसी दिन पक्ष / तो किसी दिन विपक्ष /
उन पर कीचड़ उछाल ही लेता है...( पृ. -153 )
          वे कलयुग का वर्णन करते हैं | उनका मानना है कि शारीरिक रावण मर गया लेकिन मन का रावण नहीं मरा |  वे लिखते हैं –
शैतान करता राज / दिन-रात हर पल यहाँ  ( पृ. - 98 )
वे नए दौर का बखूबी बखान करते हैं –
हीरो व विलेन में अंतर / उतना ही बचा है, जितना /
हिरोइन व कैबरे डांसर में रह गया है | ( पृ. -41 )
वे मिथिहास के प्रसंगों से आदमी की औकात दिखाते है –
किस खेत की मूली हो तुम कि /झोलियाँ भर जाएँगी फूलों से तेरी /
बिन कंटीली झाड़ियों को झेलकर भी /( पृ. - 107 )
         रिश्ते नाते भी उनकी कविताओं का विषय बने हैं | बहना के ब्याह को याद करते हैं | माँ के नाम चिट्ठी लिखते हैं | बाबू जी के घरौंदे का जिक्र करते हैं | उनके अनुसार रिश्ते दो प्रकार के होते हैं एक जन्म से और दूसरे कर्म से | वे बेटी को सोने को बात करते हैं क्योंकि देर तक जागने से परियां उड़ जाएँगी | वे हवा से कहते हैं –
ऐ हवा तू शोर न कर / गुडिया को तू बोर न कर / ( पृ. -48 )
बिटिया की तस्वीर उनकी आँखों में उभरती है | वे उसकी राह में फूल खिलाना चाहते हैं | वे बेटी के खून होने को भी कविता का विषय बनाते हैं | .
            प्यार के विभिन्न पक्षों को उन्होंने कविताओं का विषय बनाया है | याद रुलाई देती है | चंचल नयनों का शोर सुनते हैं –
सुनाई दें मुझे / जो जुबान तेरी  कह रही /
शोरगुल जो कर रहे / तेरे ये दो चंचल नयन( पृ. -74 )
वे प्यार में इन्तजार को महत्त्व देते हुए -
ताको मत तिरछी नजरों से / आ जाने दो सावन को ( पृ. – 15 )
उनका मानना है कि इन्तजार का फल मीठा होगा |
प्यार में छुअन का महत्त्व मानते है
अगर आदम ने हव्वा से / कहा होता कि मत छूना /
न होता सार जीवन का / न यह संसार ही होता /” ( पृ. -37 )
वे आशिकों जैसे कोरे वायदे नहीं करते, अपितु कहते हैं –
मांगो न चाँद मुझसे मैं दे न पाउँगा ( पृ. – 80 )
        उनका दृष्टिकोण भाग्यवादी भी है –
गर मिलना लिखा है तो ख़ुद ही मिलेगा /
न मिलना लिखा है तो नहीं ही मिलेगा( पृ. – 144 )
वे सृष्टि के विभिन्न रंगों को देखते हुए विरोधाभासों का जिक्र करते हैं –
विज्ञान है विनास, तो वरदान भी यही /
इंसान है शैतान, तो भगवान भी यही /( पृ. -39 )
            रामायण उन्हें देवादिदेव इंद्र द्वारा रचित सोप-ओपेरा लगता है | वे राम को नारी विरोधी तक कह जाते हैं –
जहाँ पूजनीय है नारी / वहीं देवता बसते हैं /
किन्तु राम से देव, दैव हा !!! / अग्नि परीक्षा लेकर भी /
सीताजी को तजते हैं ( पृ. -83 )
        उनकी कविताओं में प्रकृति का चित्रण है |सुबह का एक चित्र देखिए –
बनकर मोती ओस की बूंदे / तरीन-तरीन पर बिछ आई है
जैसे रवि ने नभ से तारे / धरती पर बरसाए हैं ( पृ. -116 )
वर्षा ऋतु का वर्णन है –
वाह-वाह बौछारें लाई / सौंधी गंध समेट आई ( पृ. -111 )
वे एक- एक पौधा लगाने का आह्वान करते हैं | उन्हें अपने साथी से ज्यादा पौधे के पत्तों से प्रेम है | उन्हें साथी का बडबडाना आयर पत्तों का फडफडाना एक सा लगता है | वे फूलों की बात करते हुए उन्हें न तोड़ने का संदेश देते हैं | वे लिखते हैं –
जो पिरोए माल में इनको / उन्हें धिक्कार है( पृ.- 82 )
           अयंगर ने मुक्त छंद कविताओं की रचना की है, लेकिन तुकान्तक शैली को भी अपनाया है | वे हिंदी के पक्षधर हैं लेकिन कविता में भाषा को सरस बनाए रखने के लिए विदेशज शब्दों का प्रयोग भी करते हैं | वे प्रयोगधर्मी हैं | कहावत का नया प्रयोग देखिए –
खरबूजा चाकू पर पड़े या / खरबूजे पर चाकू पड़े /
पैसा कभी नहीं कटता |( पृ. – 87 )
वे चाटुकारिता से लेखन को बेहतर मानते हैं -
घिस रहा मैं कलम / कोई तलवे घिस रहा( पृ. -146 )
             संक्षेप में, भाव पक्ष और कला पक्ष से उनका यह संकलन महत्त्वपूर्ण है |
******
दिलबागसिंह विर्क

1 टिप्पणी:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (30-09-2017) को "विजयादशमी पर्व" (चर्चा अंक 2743) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...