BE PROUD TO BE AN INDIAN

रविवार, अप्रैल 21, 2019

कहानीकार मालती मिश्रा की नज़र में कवच

वर्तमान परिवेश के धरातल पर रची गई काल्पनिक सत्य है 'कवच'

मानव का परिपक्व मन समाज की, परिवार की हर छोटी-बड़ी घटना से प्रभावित होता है और एक साहित्यकार तो हर शय में कहानी ढूँढ़ लेता है। आम व्यक्ति जिस बात या घटना को दैनिक प्रक्रिया में होने वाली मात्र एक साधारण घटना मान कर अनदेखा कर देते हैं या बहुत ही सामान्य प्रतिक्रिया देकर अपने मानस-पटल से विस्मृत कर देते हैं, उसी घटना की वेदना या रस को एक साहित्यिक हृदय बेहद संवेदनशीलता से महसूस करता है और फिर उसे जब वह शिल्प सौंदर्य के साथ कलमबद्ध करता है तो वही लोगों के लिए प्रेरक और संदेशप्रद कहानी बन जाती है। एक कहानीकार की कहानी कोरी काल्पनिक होते हुए भी अपने भीतर सच्चाई छिपाए रहती है, वह एक संदेश को लोगों के समक्ष रोचकता के साथ प्रकट करती है और चिंतन को विवश करती है। एक कहानीकार पाठक को मनोरंजन के साथ-साथ सामाजिक दायित्वों के लिए जागरूक भी बनाता है। एक साहित्यकार अपने साहित्य से समाज के उत्थान या पतन दोनों की दिशा सुनिश्चित कर सकता है और साहित्य की विधाओं में कहानी अति प्रभावी होती है। इसमें लोगों को बाँधे रखने के साथ-साथ सकारात्मक या नकारात्मक सोच को जन्म देने की गुणवत्ता होती है।  कहानीकार दिलबाग 'विर्क' जी ने अपने संकलन 'कवच' में ऐसी ही इक्कीस संदेशप्रद कहानियों को संकलित किया है, जो वर्तमान समाज का आईना हैं। वर्तमान समाज की हर सकारात्मक, नकारात्मक पहलू पर उनकी लेखनी चली है। उनकी लेखनी से निकला हर शब्द कहानी की आत्मा प्रतीत होता है।
                 इसका कथानक रिश्तों की कशमकश, बेरोजगारी, रूढ़िवादिता, आधुनिकता की फिसलन, पारिवारिक बंधन की छटपटाहट आदि को अपने भीतर समेटे हुए है। कथोपकथन को पात्रों के अनुकूल रखने का प्रयास किया है। घर-गृहस्थी की चक्की में पिसता आज का युवा घर-परिवार के बंधनों से कुछ देर की मुक्ति हासिल कर मानों स्वयं को खुले आकाश का पंछी समझ लेता है और उसका चंचल मन कल्पनाओं के पंख लगा बंधन मुक्त स्वच्छंद होकर खुले आकाश में उड़ान भरना चाहता है और उसकी इस कल्पना की चिंगारी को हवा देने का काम आजकल सोशल मीडिया के द्वारा बखूबी कर दिया जाता है। कभी-कभी तो व्यक्ति मात्र क्षणिक हँसी-मजाक समझकर की गई बातों की श्रृंखलाओं में ऐसा उलझता जाता है कि उसे ज्ञात ही नहीं होता कि वह कितनी दूर निकल आया और जो वह कर रहा है वह गलत है या सही, किंतु किसी अपने के ऐसी परिस्थिति में होने की आशंका मात्र से सजग हो उठता है, 'खूँटे से बँधे लोग' कहानी के माध्यम से लेखक ने बेहद सजीवता से इसका चित्रण किया है। इसके एक-एक संवाद बेहद सहज आम बोलचाल की भाषा में लिखे गए हैं जो हिन्दी-अंग्रेजी के बंधनों से सर्वथा स्वतंत्र हैं।
          कहानी के संवाद पात्रों और घटनाओं को सजीवता प्रदान करते हैं। दृष्टव्य है- कहानी का मुख्य पात्र अपनी सोशल मीडिया की महिला मित्र के प्रश्न का उत्तर देते हुए कहता है-
"नहीं-नहीं, हम खूँटे से बँधे लोग क्या सहेली बनाएँगे।"
"खूँटे?"
"घर गृहस्थी खूँटे ही तो हैं।"- "हा हा हा" कहकर रमेश ने अपनी इस गंभीर बात को मजाक का रंग देने की कोशिश की।
"हम्म, कभी-कभी छूट तो मिल ही जाती होगी?" उसने आँख मारती स्माइली के साथ मैसेज भेजा।
"छूट तो कहाँ मिलती है, बस खूँटे पर बँधे थोड़ा उछल-कूद कर लेते हैं।" रमेश ने भी उसी स्माइली के साथ रिप्लाई किया।
               पुस्तक की प्रतिनिधि कहानी 'कवच' के माध्यम से लेखक निश्चित समय पर कार्य न कर पाने की स्थिति में बहानों का कवच तैयार करने के प्रयास करता है जो एक मानव मन की सहज प्रक्रिया होती है और मस्तिष्क पर यही दबाव लेकर सो जाने से स्वप्न में वही सब देखता है कि महाभारत के पात्रों ने भी किस प्रकार स्वयं को  निर्दोष दिखाने के लिए कवच ओढ़ रखा है।  महाभारत के पात्रों के माध्यम से पौराणिकता में पत्रकार रंजन जैसे आधुनिक पात्रों को सम्मिलित करके लेखक ने कहानी को वर्तमान धरातल पर सार्थक कर दिया है। वहीं 'सुहागरात' जैसी कहानी समाज में व्याप्त रिश्तों के विकृत पहलू को नग्न करती है।
                     कवच की सभी कहानियाँ वर्तमान परिवेश के धरातल पर रची गई काल्पनिक सत्य हैं। सभी कहानियों को पढ़कर ऐसा प्रतीत होता है कि ये पात्र तो हमारे जाने-पहचाने से हैं, शायद ये कहानी हम अक्सर अपने आसपास देखते हैं। जब किसी कहानी को पढ़ते हुए पाठक स्वयं को उस कहानी का पात्र महसूस करने लगे तो वह कहानी कहानी नहीं जीवन प्रतीत होने लगती है, कुछ ऐसी ही हैं कवच की जीवंत कहानियाँ।
                    संबल जैसी कहानी जहाँ आजकल लड़कियों का संबल बनाए रखने हेतु और बुराई से सामना करने के लिए माता-पिता को बेटियों के साथ मित्रवत् व्यवहार करने की सीख देती है, वहीं कार्यक्षेत्र में महिला सहकर्मियों को लेकर पुरुष वर्ग द्वारा बनाई जाने वाली बातें तथा किंवदंतियों की भी बड़ी खूबसूरती से 'चर्चा' कहानी में चर्चा की गई है।
                         जहाँ एक ओर जाति-पाँति, धर्म-गोत्र में उलझे समाज के स्याह पहलू में विलीन बेटियों की व्यथा को दर्शाते हुए माता-पिता के बलिदान के द्वारा इस रूढ़िवादिता के तिमिर से ज्ञान के प्रकाश की ओर ले जाने का प्रयास 'बलिदान' कहानी का मूल विषय है, तो वहीं पुत्र और पति के रिश्तों में पिसते एक ऐसे पुरुष वर्ग की दास्तां सोचने पर विवश कर देती है कि वास्तव में दोष किसका है? साधारण नौकरीपेशा उस पुत्र का जो अपनी माँ को संतुष्ट रखने के प्रयास में पत्नी की दृष्टि में उपेक्षित होता है या उस पति का जो पत्नी के साथ सामंजस्य बिठाने के प्रयास में माँ की उलाहनों का शिकार होता है, और अंततः माँ और पत्नी इन 'दो पाटन के बीच' पिसता हुआ उस अपराध का सजाभोगी बनता है, जो उसने किया ही नहीं।
                     कार्यालयी परिवेश में साथ काम करते हुए विवाहेतर आकर्षण का सजीव चित्रण 'च्युइंगम' के माध्यम से किया है तो बढ़ती महात्वाकांक्षाओं को पूरा करने और दिखावे के अधीन होकर खर्चे पर नियंत्रण न करके कर्ज के बोझ में दबकर आत्महत्या करने की घटना का बेहद सजीव चित्रण कहानी 'सुक्खा' के माध्यम से किया गया है।
                   एकबार यदि किसी के माथे सजायाफ्ता का कलंक लग जाए तो वह कभी पीछा नहीं छोड़ता और व्यक्ति निराशा के दलदल में धँसता जाता, इसका उदाहरण है कहानी 'दलदल'।
                   कॉलेज के दिनों में दोस्ती के महत्व तथा प्यार के इज़हार न कर पाने की कशमकश का चित्र 'इजहार' में जीवंत हो उठा तथा रोज़गार की आड़ में उसूलों और अनुचित कार्यों के मध्य जद्दोज़हद कहानी 'रोज़गार' में परिलक्षित है।
                     देश के प्रति उदासीन रवैया दर्शाती कहानी 'गर्लफ्रैंड जैसी कोई चीज' तथा भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद, लाचारी, गरीबी और बेरोजगारी पर प्रहार है 'कीमत' कहानी।
                           कलुषित मानसिकता, चारित्रिक पतन और  समाज की विद्रूपताओं का आईना है 'प्रदूषण' तो दिल और दिमाग के अन्तर्द्वन्द्व में मानवता और नैतिकता का ह्रास दर्शाती कहानी 'गुनहगार' जो पाठक को झकझोर कर रख देने की क्षमता रखती है।
लेखक ने समाज के हर पहलू को पाठक के समक्ष प्रभावी ढंग से प्रस्तुत करने का प्रयास किया है।
                      अंजुमन प्रकाशन से प्रकाशित 152 पृष्ठ की 'कवच' का मूल्य मात्र 150/ है।
                मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि 'कवच' की कहानियाँ पाठक को बाँधे रखने में पूर्णतः सक्षम हैं तथा इसके प्रत्येक पात्र को आप अपने आसपास महसूस कर पाएँगे। लेखक अपनी कहानियों के माध्यम से जो संदेश पाठक तक पहुँचाना चाहते हैं उसमें पूर्णतः सफल हुए हैं।

मालती मिश्रा 'मयंती'
समीक्षक, कहानीकार व लेखिका
बी-20, गली नं०- 4, भजनपुरा, दिल्ली-110053
मो. 9891616087

2 टिप्‍पणियां:

digital marketing company Indore ने कहा…


hey, very nice site. thanks for sharing post
MP News in Hindi

शिवपुरी-न्यूज़/

Entertaining Game Channel ने कहा…

This is Very very nice article. Everyone should read. Thanks for sharing and I found it very helpful. Don't miss WORLD'S BEST CARGAMES

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...